Monday, November 07, 2005

परिचय







डॉ॰ दिनेश पाठक 'शशि'
जन्म- 10जुलाई 1957, रामपुर(नरौरा), जिला- बुलन्दशहर (उ०प्र०)
पिता- पं० हरप्रसाद पाठक
माता- श्रीमती चंपा देवी
शिक्षा- एम.ए.(हिन्दी), पी-एच॰डी॰ (भारतीय रेल के साहित्यकारों का हिन्दी भाषा एवं साहित्य को प्रदेय); विद्युत इंजी.डिप्लोमा
प्रकाशन- सन् 1975 से स्तरीय पत्र-पत्रिकाओं, संकलनों में कहनी, बार्लकहानी, लघुकथा, लेख एवं समीक्षाओं का प्रकाशन
प्रसारण- सन् 1980 से आकाशवाणी के विभिन्न केन्द्रो से कहानी, ब्रज कहानी, कविता, नाटक एवं झलकियों का प्रसारण
प्रकाशित कृतियाँ-
* अनुत्तरित (कहानी-संग्रह)
* धुन्ध के पार (कहानी-संग्रह)
* हाँ,यह सच है (लघुकथा-संग्रह)
* अमर ज्योति
* पुस्तकों की हड़ताल
* अनुपम बाल कहानियाँ
* सपने में सपना
* जादुई अँगूठी (बाल कहानी-संग्रह)
* किट्टी (बाल उपन्यास)
* भारतीय रेल: इतिहास एवं उपलब्धियाँ
संपादन-
1- समकालीन लघुकथा(लघुकथा संकलन)
2- शब्दों के तेवर (लघुकथा संकलन)
3- कदम-कदम समझौते (लघुकथा संकलन)
4- टुकड़ा-टुकड़ा सच (व्यंग्य संकलन)
5- आधी हकीकत (व्यंग्य संकलन)
6- सम्यक् (लघुकथा विशेषांक)
7- सम्यक् (महिला लघुकथा विशेषांक )
8- बाल साहित्य समीक्षा 98
9- यू.एस.एम.(त्रै) मथुरा विशेषांक
संपादन सहयोग-
1- विजय यात्रा (साप्ता.) सन् - 79-80
2- राष्ट्रीय श्रमिक (पा.) सन् - 80-81 में
3- सम्यक् (त्रैमासिक)
4- हाइकु दर्पण (त्रैमासिक)
प्रतिनिधि-
1- शुभ तारिका (मासिक)
2- बच्चों का देश (मासिक)
3- बाल प्रतिबिम्ब (मासिक)
4- हाइकु दर्पण (त्रैमासिक)
सचिव- पं० हरप्रसाद पाठक स्मृति बालसहित्य पुरस्कार समिति 1996
पुरस्कार-
* भारत सरकार द्वारा प्रदत्त प्रेमचन्द पुरस्कार- 1996
* राष्ट्रकवि पं.सोहन लाल द्विवेदी बाल साहित्य पुरस्कार समिति चित्तौड़गढ़ द्वारा सम्मानित- 1998
* भारतीय बाल कल्याण संस्थान कानपुर द्वारा सम्मानित- 1999
* अ.भा.साहित्यकार अभिनन्दन समिति, मथुरा द्वारा सम्मानित- 2000
* संभावना संस्था, नोएडा द्वारा मायाश्री पुरस्कार- 2003

संप्रति- उ. मध्य रेल में अवर अभियन्ता (प्रथम)

संपर्क सूत्र-

28, सारंग विहार
रिफाइनरी नगर, मथुरा (उ॰प्र॰)- 281001
दूरभाष- 0565-6450589
मोबा॰- 09412727361
e-mail- dinmtr60@yahoo.co.in

2 Comments:

At 6:00 AM, Anonymous Anonymous said...

Dr. dinesh pathak ji
Aapki kahaniyan aur laghukathayen padi hain. Aapke blog per padene ka intzar rahega.
Ramakant, Almora

 
At 3:43 AM, Blogger ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

नमस्कार। हिन्दी बाल साहित्य पर जिन लोगों ने पहले पहल ब्लाग बनाया है, उनमें से एक आप भी हैं। यकीन जानिए आपका ब्लाग देखकर ही मेरी इसमें रूचि जागी। फिलहाल मेरा ब्लाग भी टूटा फूटा बनकर तैयार है। समय मिले तो तशरीफ लाएं। http://z-a-r.blogspot.com

 

Post a Comment

<< Home